सामाजिक सद्भाव

जातीय संकीर्णता का ब्राह्मण समाज में कभी भी कोई स्थान नहीं रहा है । हम सर्वदा ही विशाल उदारता के पक्षधर रहे हैं । ब्राह्मणों ने ‘सर्वे भवन्तु सुखिनः’ जैसेे मंगलकारी मंत्रों से समरसता का उद्घोष किया है । विशेष प्रज्ञा से सुसम्पन्न न्याय प्रिय विप्र समाज ने सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के कल्याण को ध्यान में रखकर सत्त साधना व आध्यात्म की आराधना की है, करता रहेगा । विप्र फाउण्डेशन की कामना है कि पूरा भारतीय समाज तेजस्वी और ओजस्वी बने, ज्ञानी और विज्ञानी बने । विफा द्वारा सामाजिक समरसता को समर्पित कुछ प्रमुख कार्यक्रम:

सर्व भबन्तु सुखीन

धार्मिक एवं नैतिक प्रवचनों का आयोजन करना, सभी समाज के लोगों को उनके शुभ सामूहिक आयोजनों पर आशीर्वाद, शुभकामनायें एवं बधाई प्रेषित करना, मृत्यु इत्यादि दुःखद अवसरों पर संवेदना संदेश भेजना जैसे भावात्मक कार्यों द्वारा सर्वमंगल की साधना विफा की कामना है ।

चरित्रा नायक नमन

राष्ट्र एवं समाज के विशेष चरित्र नायकों को हार्दिक एवं सार्वजनिक सम्मानपूर्वक नमन् करना, अपने-अपने क्षेत्र के प्रमुख महान पुरुषों की जयन्तियों में सहभागिता दर्ज करवाना तथा राष्ट्र नायकों की जयन्तियों पर सामूहिक कार्यक्रम आयोजित करके श्रद्धा अभिव्यक्त करना विफा के कार्यक्रमों का महत्वपूर्ण अंग है ।

सांस्कृतिक समावेश

सम्पूर्ण भारतवर्ष में सांस्कृतिक समरसता का परिवेश निर्माण करते हुए विभिन्न राष्ट्रीय, सांस्कृतिक तथा सामाजिक उत्सवों पर आयोजन, वैचारिक आदान प्रदान हेतु मेलों, गोष्ठियों का संयोजनए संस्कार शिविर आदि विप्र फाउण्डेशन के इस कार्यक्रम में समाहित है ।

न्याय प्रतिबद्धता

न्याय प्रियता ब्राह्मण का सर्वोच्च गुण है । पीड़ित व्यक्ति के प्रति यथासम्भव सहयोग का हाथ बढ़ाना ही मानव धर्म है । किसी भी जाति-वर्ग के साथ कहीं भी अन्याय हो रहा हो तो न्याय के प्रति प्रतिबद्धता दिखाते हुए अन्याय के विरुद्ध खड़े होना विफा का दृढ़ संकल्प है ।

प्रज्ञा.कौशल प्रोत्साहन

विप्र समाज द्वारा अपने दायित्वबोध का निर्वाह करते हुए शिक्षा, साहित्य, खेलकूद, अभिनय, संगीत, नृत्य एवं चित्रकला आदि विधाओं मे श्रेष्ठता को प्रोत्साहित, पुरस्कृत एवं अभिनन्दित करना, तदर्थ कार्यक्रमों का आयोजन करना प्रज्ञा-कौशल प्रोत्साहन का लक्ष्य है ।

सामाजिक सरोकार

परम्पराओं के साथ युगानुकूल परिवर्तन के पक्षधर बन कर काल बाह्य रीतियों व नीतियों में बदलाव के लिये समाज में जागरूकता लाने, संस्कृति का अनुसरण करते हुए वृद्धजनों की सेवा-सुश्रुषा करने, अभिशप्तजनों की यथासम्भव मदद करने हेतु विफा अवधारित है ।

समरसता सम्मान

सामाजिक समरसता हेतु कार्यरत अनुकरणीय व्यंिक्तत्व जिन्होंने समाज को बल प्रदान किया है तथा जिनका जीवन मानव कल्याण को समर्पित है, ऐसे लोगों को समय-समय पर विफा द्वारा अपने विशिष्ठ आयोजनों में सम्मानित कर, कृतज्ञता ज्ञापित करना, इस कार्यक्रम का ध्येय है ।