स्वाजातिया गतिशीलता

अपनी परम्परा का ज्ञान, जातीय चेतना और आत्मविश्लेषण की त्रिवेणी समाज में प्रवाहित होती रहती है तभी समाज साक्षात् तीर्थराज की भांति प्रतिष्ठित होकर मानवता को मुद्मंगलमय बनाता है । ब्राह्मणत्व जगेगा तभी राष्ट्र जगेगा । एक नई चेतना, स्फूर्ति व सकारात्मक विचारधारा से समाज जब उन्नत होगा तो राष्ट्र स्वतः ही सामर्थ्यवान बन जायेगा । समाज के सर्वांगीण विकास हेतु मुक्त एवं अकुण्ठ भाव से हम कार्यरत है । वर्तमान में विफा द्वारा स्वजातीय गतिशीलता को समर्पित कुछ प्रमुख कार्यक्रम:

विप्र स्कॉलर्स प्रोग्राम

उच्च शिक्षा हेतु व्याज रहित ऋण उपलब्ध करवाना, कैरियर काउंसिलिंग, प्रशासनिक सेवाओं हेतु मार्गदर्शन, कोचिंग क्लासेस, बोर्ड परिक्षाओं में उल्लेखनीय अंक प्राप्त छात्रों को प्रोत्साहन पुरस्कार, विद्यालय, महाविद्यालय, विश्वविद्यालय, छात्रावास निर्माण जैसे उद्देश्यों हेतु विप्र स्कॉलर्स प्रोग्राम संचालित है ।

विप्र एन्टप्रेन्योर्स़

विश्वभर में उद्यमरत विप्रजनों की निर्देशिका तैयार कर स्थापित विप्र उद्यमियों में परस्पर सहयोग का वातावरण सृजित करने, नये क्षितिजों की जानकारियां देने, युवाओं व महिलाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने जैसे उद्देश्यों हेतु विप्र इन्ट्रीप्रेन्योर्स $ प्रयत्नशील है ।

विप्र सुरवास्थ्य परियोजना

समाजजनों के सुस्वास्थ्य हेतु जागरूकता अभियान चलाना, उचित उपचार हेतु आर्थिक सुरक्षा प्रदान करते हुए हेल्थ इन्स्योरेन्स कार्ड वितरित करना एवं समय-समय पर योग, ध्यान, साधना शिविर, रक्तदान शिविर, स्वास्थ्य परीक्षण कैम्प आदि के आयोजन हेतु विप्र सुस्वास्थ्य परियोजना संकल्पित है ।

विप्र एम्बासडर्स

‘एक सब के लिए, सब एक के लिए’ के उद्देश्य से देश के सभी राज्यों में बूथ ईकाईयों तक सामाजिक नेटवर्क तैयार करते हुए विप्र एम्बासडर्स की सक्रिय उपलब्धता हमारा प्रयास है । इससे देशभर में कहीं भी सुलभतापूर्वक सम्पर्क स्थापित किया जा सकेगा ।

विप्र संगम

समान विचारधारा वाली समस्त विप्र संस्थाओं के एक सशक्त मंच के माध्यम से एक-दूसरे को निकट लाकर परस्पर सहयोग तथा संस्थाओं के सेवा कार्यों को बहूगुणित करने के उद्देश्य से विप्र संगम फेडरेशन ऑफ विप्र सोशल ऑरगेनाईजेशन के तत्वावधान में विफा प्रयत्नरत है ।

विप्र सप्तविध्या पोषण समिति

देवभाषा, कर्मकाण्ड, आयुर्वेद, ज्योतिष, वास्तुशास्त्र, देवस्थान पूजा एवं अध्यात्मिक प्रवचन जैसे क्षेत्रों की प्रतिष्ठा एवं पोषण द्वारा उत्कृष्ट समाज का निर्माण करने हेतु योजनाबद्ध तरीके से सत्त प्रयत्नशील रह कर सार्थक एवं सुखद परिणाम प्राप्त करना विप्र सप्तविद्या पोषण समिति का मनोरथ है।

विप्र परिणय सेतु

वृहŸार विप्र समाज मेें वैवाहिक सम्बन्ध स्थापित हो इस हेतु समान संस्कृति वाले ब्राह्मण परिवारों को अर्न्तउपजातीय विवाह के लिये प्रेरित करना, योग्य वर-वधु की तलाश में सहयोगी की भूमिका निभाना विफा की विप्र परिणय सेतु नामक सेवा का उद्देश्य है ।